Dark Web Is A Trap | Why Dark Web Exist

                   Dark Web Is A Trap | Why Dark Web Exist

क्या डार्क वेब (dark web ) एक जाल है ? क्या सरकार इसको बंध कर सकती है।  अगर कर सकती है तो क्यों  नहीं करती? इसके बारे में आज हम बात करने वाले है। आज हम बात करते है इंटरनेट (internet ) के उस कोने की जो की इंडेक्स (index ) नहीं है। जो की छुपा हुआ है। जो की इंटरनेट (internet ) का ज्यादा हिंसा है।


सरफेस वेब (सरफेस वेब ) जो भी आप देखते है वो सिर्फ इंटरनेट का 10 %  हिंसा है। इस दुनिया में बहुत सारी चीज़े छुपी होइ है।  जिसको आप लोग जानते नहीं है।  तो उसी डार्क वेब की आज हम बात करने वाले है।


जैसे की आप जानते है की डार्क वेब (Dark Web ) की सुरुआत जब हुवी थी। जब (The Union Tor Project )
तोर प्रोजेक्ट (Tor Project ) आप कह सकते है की अमेरिकन डिफेन्स (american Defence ) जो भी अथॉरिटीज (Authorities) है। जिननो ने ये बनाया है।


ये एक तरीका था जिससे कोई जासूस है अमरीकन जासूस किसी अलग देसो में भी रहते है। वो सरकार से और उनकी ऑफिसियल (offical ) से बात कर सके उसको एसएमएस (sms ) कर सके और ये बता सके कोई दूसरा देस अमेरिका (america ) के ऊपर हमला  करने की तयारी कर रहा है ये मैसेज (message ) सिक्योर (secure) तरीके से अमरीका (america) को भेज सके ये इसी लिए बना था।


लेकिन बाद में ऐसा क्या हुवा की सरकार ने ये प्रोजेक्ट (Project) सभी लोगो के लिए अल्लोव (allow) कर दिया,
आप के मान में ये सवाल आता होगा जब ये प्रोजेक्ट (Project) सिर्फ आर्मी (Army) के लोगो के लिए बना था वो अपनी इन्फ्रोमेशन (Information) शेयर कर सके। कोई ऐसा इंटरनेट (Internet) बना सके जिसमे आर्मी का  सारा डाटाबेस (Database) हो। कोई भी आर्मी अफसर (army Officer) या कोई भी जासूस , सीक्रेट एजेंसी का इनफार्मेशन (Information ) सरकार तक या अपने देश तक भेज सके तो फिर ये आम जनता तो क्यों दिया गया.


यहाँ पर सहारा लिया गया सभी लोगो को हक़ है। की वो अनोन्यमौस (Anonymous) होकर कोई इसी चीज़ पर नज़र न रख सके फ्रीडम ऑफ़ स्पीच (Freedom Of Speech) का अधिकार सभी को है। इस चीज़ की आड़ में ये चीज़े सबको दे दी गयी. अब ये वो वक़्त था जब दुनिया में कोई भी तोर (तोर) को इस्तेमाल कर सकता था.


डार्क वेब (Dark Web) डीप वेब (Deep Web) को एक्सेस (Access) कर सकता था क्यूंकि जिस प्लेटफार्म जितने ज्यादा लोग होंगे उतना ही मुश्किल होगा उनके जासूस को ट्रेस (Trace) करना। जरा सोचो डार्क वेब (Dark Web) पर सिर्फ जासूस ही होते, अगर (Tor) को किसीने हैक (Hack) लिया या तोड़ निकाल लिया (हर चीज़ का एक तोड़ होता ही है ) कोई ऐसी  वीकनेस (weakness) निकाल ली जिसे tor में ये पता लग जाये की कोन इसका यूज़  कर रहा है.


तो उस चीज़ को हैक या क्रैक (Crack) करने का सीधा मतलब हुवा की आप जासूस को पकड़ सकते हो लेकीन
अब सब लोग इस्तेमाल कर रहे है तो ये पता लगा ही नहीं सकते की उसमे कोनसा इंसान अमेरिकी जासूस है.


डार्क वेब (Dark Web) पर जयादा तर ट्रैफिक अमेरिका से क्यों है। क्या आपने सोचा है।  की वो अपने रियल (Real) जासूस को अपने एजेंट्स को नॉर्मल इंसान में मिक्स (Mix) कर सके. क्यों की उसको पापकने मुश्किल हो। हाला की डार्क वेब (Dark Web) पर पकड़ न बहुत मुश्किल है। ये तभी पकड़ा जा सकता है जब इंसान यूज़ करे और उसमे इन्क्रिप्शन (incryption) है , बहुत सरे (IP ) की लेयर (Layers) हो जाती है।


जब इंसान यूज़ कर रहा होता है तभी उसको ढ़र से पकड़ा जा सकता है। तभी तो सिल्क रोड (Silk Road drug Website) का मालिक ऐसे ही एक कैफ़े में यूज़ करता हुवा पकड़ा गया था. अगर वो वहापर रंगे हाथ न पकड़ा होता तो वो कभी नहीं पकड़ा नहीं जा सकता था। क्युकी FBI के लिए भी मुश्किल है (The union rooter) को क्रैक करना


हाला की कुछ चीज़े है जोकी आप (Tor Browser) यूज़ इस्तेमाल करोगे उसमे बोला जाता है विन्डो (Window) को आप फुल स्क्रीन में खोल लोगे तो आपकी स्क्रीन साइज का पता चल जायेगा कही पर लिंक आप ओपन करके और अपनी कोई लोकेशन (Location) या (Country) दाल डोगे तो आपकी लोकेशन ट्रैक की जा सकती है अपनी कोई पर्सनल (Detalis)  दाल दोगे तो या किसी कंट्री से हो तो भी ये पता लगाया जासकता है की आप किस देश से हो.


और (Social Engineering) के जरिये डार्क वेब (Dark Web) या डीप वेब (Deep Web) पर आपकी (extract location ) पता लगायी जासकती है. हो सकता है की आपको कोई लालच दिया जाये कोई भी चीज़ आपको फ्री में देदेंगे और आप अपना एड्रेस डाल्दो , तो ये सब दिमाग का खेल है।  तो यही वजह है की सरकार  इसको सभी लोगो को अल्लोव (Allow) करती है तो यही वजह है


अब बंध क्यों नहीं करती ? तो बंध करने की बात ऐसी है की डार्क वेब (Dark Web) बहुत बड़ा है और डीप वेब (Deep Web) से कही छोटा हिंसा डार्क वेब (Dark Web) है और डीप वेब (Deep Web) इतना बड़ा है की सरफेस वेब (Surface Web) इसके सामने कुछ नहीं है.


हम जो इस्तेमाल करके है (Google ,Gmail ,Facebook, etc पर डीप वेब  निचे बहुत है। तो सरकार को बंध करने में कही सालो निकल जायेंगे। ये इतना बढ़ रहा है इतना byts हो चूका है की सरकार इसे डिलीट करना चाहे तो बरसो लग जायेंगे। सरकार के पास इतना टाइम है ही नहीं।  बहुत लोग ये भी मानते है की सरकार खुद डार्क वेब (Dark Web) डीप वेब (Deep Web) को इस्तेमाल करती है उसके प्राइवेट डाटा स्टोर करती है। और आम लोग क्यों करते है मेने बता दिया ऊपर क्यों लोगो आ गयी ये चीज़े।


सरकार को सब पता है की क्या हो रहा है। और इस टेक्नोलॉजी का अमेरिका में तोड़ निकल रखा है।
अमेरिका सरकार ऐसे सीक्रेट मिस्शन में आम जनता ऊपर नज़र रखते है की वो क्या सर्फ (Surf) करते है। ये बहुत सारी चीज़े है स्नोडन के बारे में आपने सुना होगा एडवर्ट स्नोडन की वो बोलते है की में ऐसे दुनिया में नहीं रहना चाहता की मेरी की हुई हर चीज़ रिकॉर्ड हो। उन्होंने बहुत सारे प्रोजेक्ट  किये है।


अमेरिकी सरकार की ख़ुफ़िया तोर पर चल रहे है , जिसमे आम जनता के ऊपर नज़र रखी जा रही थी. तो क्या आपको लगता इतने साल हो गए और इसका कोई तोड़ नहीं है कोई नज़र नहीं रख रहा होगा , ये सरकार इसलिए ख़तम नहीं करना चाहती ताकि वो नज़र रख सके की कोन अंदर क्या कर रहा है और को ज्यादा ख़राब काम रहा है तो इसको पढ़ा जा सके क्यूंकि वो डार्क वेब (Dark Web) को बंध कर दे तो ये जो क्रिमिनल्स (Criminals) है वो ऐसे ही चीज़ बना लेंगे  जिसका तोड़ सरकार के पास नहीं होगा। क्यूंकि ये चीज़ सरकार ने ही बनायीं है (TOR Project) अमेरिकी सरकार का बनाया हुआ है तो वो इसका तोड़ सायद जानते है। लिकीन कोई और इसे (Peer-To-Peer) एन्क्रिप्टेड नेटवर्क बना देगा जिसका तोड़ सरकार के पास नहीं होगा तो वहा पर क्रिमिनल्स खुलेआम ऑपरेट होगा।


ये चीज़ सोची है आपने जो आप बोलते हो की ये डार्क वेब (Dark Web) है क्यों अगर ये गन्दा है तो. ये सरकार ख़तम क्यों नहीं करती जब यहाँ पर लोगो को मारा जा रहा है टॉर्चर किया जा रहा है ये सारि चीज़े सरकार बंध क्यों नहीं कर देती। यही वजह है की सरकार बंध नहीं करती तो आप समज गए ये है इस चीज़ का आंसर सरकार इसको बंध क्यों नहीं करती और डार्क वेब एक्सिफ़ क्यों करता है इसकी सुरुआत कैसे हुई थी अगर आपका कोई सवाल है डार्क वेब तो आप मुझसे पूछ सकते है।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां